27 August ko landing karegi chandrayan 3 , टल सकती है चंद्रयान-3 की लैंडिंग…”: जानें ISRO साइंटिस्ट ने ऐसा क्यों कहा?

  27 August ko landing karegi chandrayan 3 , टल सकती है चंद्रयान-3 की लैंडिंग…”: जानें ISRO साइंटिस्ट ने ऐसा क्यों कहा?

 27 August ko landing karegi chandrayan 3 

नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है आज हम बात करने वाले हैं chandrayaan-3 के बारे में रूस का 25 क्राफ्ट चांद पर लैंडिंग के पहले ही क्रैश हो चुका है ऐसे में chandrayaan-3 मिशन के जरिए भारत के पास सबसे पहले चांद के साउथ पोल पर पहुंचने का मौका है चंद्रयान 3 को 23 अगस्त को शाम 6: 04 बजे 25km की ऊंचाई से चंद्रमा के साउथ पोल पर लैंड कराने की कोशिश की जाएगी हालांकि इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेश के वैज्ञानिक के मुताबिक अगर 23 अगस्त को लैंड मॉड्यूल मैं कोई दिक्कत आती है तो ऐसे में तेज के वजह 27 अगस्त को लेंडिंग कराई जाएगी। अहमदाबाद स्थित स्पेस एप्लीकेशन सेंटर इसरो के डायरेक्टर निलेश  एम देसाई ने कहा कि चंद्रयान 3 की लैंडिंग के बारे में फैसला लैंडर मॉड्यूल कंडीशन और चंद्रमा पर स्थितियों के आधार पर लिया जाता है उन्होंने आगे कहा 23 अगस्त को चंद्रयान 3 के चंद्रमा पर उतरने से 2 घंटा पहले हम लैंडर मॉड्यूल की स्थिति और चंद्रमा परिस्थितियों के आधार पर यह तय करेंगे कि उस समय उसे उतारना उचित होगाया नहीं. अगर कोई भी कारक अनुकूल नहीं लगता है, तो हम लैंडिंग स्थगित करेंगे और 27 अगस्त को लैंडिंग कराई जाएगी. हालांकि, मुझे फिलहाल लगता है कि कोई समस्या नहीं होनी चाहिए. हम 23 अगस्त को ही चंद्रयान-3 की चांद के साउथ पोल पर लैंडिंग कराने में कामयाब होंगे.”

WhatsApp Group Join Now

फाइनल  डीबूस्टिंग ऑपरेशन पूरा हुआ।

इससे पहले चंद्रयान-3 का दूसरा और फाइनल डेबयूस्टिंग ऑपरेशन परिवार रात 1:50 पर पूरा हुआ था इस बार ऑपरेशन के बाद लैडर की चंद्रमा से न्यूनतम दूरी 25 कमी और अधिकतम दूरी 134 किलोमीटर रखी गई हैं।डीबूस्टिंग में स्पेसक्राफ्ट की स्पीड को धीमा किया जाता है।

इसरो के अध्यक्ष ने केंद्रीय मंत्री को दी जानकारी:

वहीं, इसरो के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव एस सोमनाथ ने सोमवार को दिल्ली में केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विज्ञान और प्रौद्योगिकी, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष जितेंद्र सिंह से मुलाकात की. उन्होंने केंद्रीय मंत्री को ‘चंद्रयान -3’ की स्थिति और लैंडिंग की तैयारियों से वाकिफ कराया।

23 अगस्त को ही क्यों करेगी लैंडिंग क्यों?

अभी चंद्रमा पर रात है और 23 तारीख को सूर्योदय होगा चंद्रयान-3 के लेटर रोवर दोनों ही पावर जेनरेट करने के लिए सोलर पैनल उसे करेंगे इसलिए 23 तारीख को ही लैंडिंग के लिए चुना गया है।

चंद्रमा के फार साइड की तस्वीरें ली ।

इसरो ने चंद्रमा की शायरी आनी ऐसा इलाका जो पृथ्वी से कभी-कभी दिखता ही नहीं है उसकी तस्वीर शेयर की है इसे chandrayaan-3 में लगे लेदर रिजल्ट डिटेक्शन एंड एवॉयडेंस कैमरे (LHDAC) से 19 अगस्त 2023 को खींचा गया ।

 

Disclaimer:- हमारे द्वारा दिया गया यह जानकारी हम और हमारी टीम आप तक पहुंचाती है हमारा उद्देश्य है शिक्षा जानकारी, सरकारी योजना, लेटेस्ट जॉब तथा डेली अपडेट से जुड़ी जानकारी आप तक पहुंचाना है, जिससे आप इसके बारे में अच्छी तरह जान सके, इससे जुड़ा कोई भी निर्णय आपका अंतिम निर्णय होगा इसमें हम और हमारी टीम का कोई भी सदस्य जिम्मेदार नहीं होगा।

धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp Group Join Now
Scroll to Top